aitbaar nahi
karna lyrics ‌‌‌
यह गाना कयामत फिल्म का है।इस फिल्म के अंदर अजय देवगन अभिनीत सुनील शेट्टी संजय कपूर ,अरबाज खान ,ईशा कोप्पिकर ,रिया सेन ,नेहा धूपा ,आशीष चौधरी जैसे कलाकार थे।11 जुलाई 2003 को यह फिल्म रिलिज हूई थी। और इसका बजट था यूएस $ 2.3 मिलियन। और इसने कमाए थे यूएस $ 4.1 मिलियन।


aitbaar nahi karna lyrics

‌‌‌ऐतबार नहीं करना
इंतजार
नहीं करना
ऐतबार नहीं करना
इन्तज़ार
नहीं करना
हद से भी ज़्यादा तुम
किसी से प्यार नहीं करना
हद से भी ज़्यादा तुम
किसी से प्यार नहीं करना
इकरार नहीं करना
जाँ निसार नहीं करना
हद से भी ज़्यादा तुम
किसी से प्यार नहीं करना
हद से भी ज़्यादा तुम
किसी से प्यार नहीं करना
मंज़िलें
बिछड़ गयीं
रास्ते
भी खो गये
आये फिर ना लौट के
जो दीवाने हो गये
चाहतों
की बेबसी
दूरियों
के ग़म मिले
बेक़रारियाँ मिलीं
चैन यार कम मिले
बेक़रार
नहीं करना
इन्तज़ार
नहीं करना
हद से भी ज़्यादा तुम
किसी से प्यार नहीं करना
हद से भी ज़्यादा तुम
किसी से प्यार नहीं करना
कोई तो वफ़ा करे
कोई तो जफ़ा करे
किसको है पता यहाँ
कौन क्या ख़ता करे
ऐसा ना हो इश्क़ में
कोई दिल को तोड़ दे
बीच रहा मे तेरा साथ छोड़ दे
इजहार नहीं करना
इंतजार
नहीं करना
हद से भी ज्यादा तुम किसी से
 प्यार नहीं करना

aitbaar nahi karna lyrics का अंग्रेजी वर्जन


aitabaar
nahin karana
intajaar mat
karo
aitabaar
nahin.
intazaar
nahin karana
had se bhee
zyaada tum
kisee se
pyaar nahin karana
had se bhee
zyaada tum
kisee se
pyaar nahin karana
main teevr
nahin hai
jaan nisaar
nahin karana
had se bhee
zyaada tum
kisee se
pyaar nahin karana
had se bhee
zyaada tum
kisee se pyaar
nahin karana
had se bhee zyaada
tum
kisee se pyaar
nahin karana
koi to wafa kre
koi to jafa kre
kisako yahaan pata
hai
kaun kya khata kare
aisa na ho ishq
mein
koee dil ko tod de
beech raha me tera
saath chhod de
ijahaar nahin
karana
intajaar mat karo
had se bhee jyaada
tum kisee se
 pyaar nahin karana

aitbaar nahi
karna lyrics ‌‌‌
गाने का संदेश


‌‌‌यह गाना प्यार को ना करने का संदेश देता है और प्यार करने पर मिलने वाले धोखों के बारे मे इस गाने मे चेताया गया है। यदि आप एक गाने को संदेश की तरह सुनते हैं तो आप इसका मतलब जान ही चुके होंगे aitbaar nahi karna lyrics ‌‌‌मे क्या बताया गया है। इस बारे मे हम विस्तार से जानते हैं।

                                 ऐतबार नहीं करना
                                  इन्तज़ार नहीं करना
                                   ऐतबार नहीं करना
‌‌‌सोंग कहता है कि प्यार के मामले मे किसी पर भी एतबार नहीं करना मतलब किसी पर भी विश्वास नहीं करना ।किसी का विश्वास करके उसका इंतजार करते मत रह जाना ।दोस्तों यह पंक्ति बहुत से लोगों की रियल लाइफ के अंदर लागू होती है। बहुत से लोग अपने प्रेमी पर बहुत हद तक विश्वास कर लेते हैं। जो एक ‌‌‌बुरी बात है।

और कई बार तो लड़कियां लड़कों के इंतजार मे अपनी जान दे देती हैं।
यदि यह गाना सही से सुना है तो आप समझ चुके हैं। ऐसा पीछले दिनों ही हुआ है। एक लड़की
अपने प्रेमी के साथ भाग आई और इसके लिए अपने पति को छोड़ दिया लेकि
हद से भी
ज़्यादा तुम

                      हद से भी ज़्यादा तुम
                      किसी से प्यार नहीं करना।।

‌‌‌कुछ लोगों की पागलों की तरह प्यार करने की आदत होती है। आप किसी से भी प्यार करते हैं। यह एक अच्छी बात हो सकती है। लेकिन किसी के प्यार मे डूब जाना अच्छी बात नहीं है। अपनी सीमाओं के अंदर प्यार करना अच्छा है। लेकिन अपनी सीमा को भूलना बुरा है। ‌‌‌जब आप किसी से हद से ज्यादा प्यार
करने लग जाते हैं तो वही आपको सबसे अधिक दुख दे सकता है। यदि आपका साथ आपसे बिछुड़
जाता है तो यह आपके लिए असहनिए हो जाएगा ।
                                  इकरार नहीं करना
                                  जाँ निसार नहीं करना’

‌‌‌प्यार करना सही हो सकता है। लेकिन जैसे आप किसी के प्यार मे डूब जाते हो और उसके बाद आप आगे पीछे कुछ नहीं देखते हो और कई बार तो नौबत यहां तक जाती है कि लोग अपने प्यार के लिए जान दे देते हैं। तभी इस गाने के अंदर कहा गया है कि जां निसार नहीं करना प्यार को पर इतना भी प्यार ना करो की वह ‌‌‌आपकी मौत का सबब बन जाए । किसी के प्यार के उपर
जीवन कुर्बान करना व्यर्थ है। वरन जिंदगी के और भी बहुत से  मकसद होते हैं।
                                     मंज़िलें बिछड़ गयीं
                                      रास्ते भी खो गये
                                      आये फिर ना लौट के
                                      जो दीवाने हो गये।।

मंज़िलें बिछड़ गयीं                                        रास्ते भी खो गये                                        आये फिर ना लौट के                                        जो दीवाने हो गये।।

‌‌‌जो लोग दिवाने हो जाते हैं किसी से प्यार करने लग जाते हैं। वे वास्तव मे अपनी मंजिल को भूल जाते हैं। उनको नहीं पता होता है कि उनकी सही मंजिल कौनसी है? वे मंजली और रस्ते प्यार के नश के अंदर कहीं पर खो जाते हैं। और उसके बाद प्रेमी कभी भी वापस सही रस्ते पर मतलब अपने प्यार को भूलकर नहीं आते है। ‌‌‌कहने का मतलब है कि जो इंसान एक
बार प्यार के अंदर पड़ जाता है उसके बाद इसके नशे से जिंदगी पर आजाद नहीं हो पाता है।
                                 चाहतों की बेबसी
                                 दूरियों के ग़म मिले
                                  बेक़रारियाँ मिलीं
                                 चैन यार कम मिले
                                 बेक़रार नहीं करना।।
‌‌‌अपनी चाहत को पाने के लिए बहुत बार हम बेबस हो जाते हैं। कई बार हमारे सामने मुश्बितें जाती हैं। जैसे कभी आपका प्यार ही मना कर देता है या कुछ ओर हो जाता है। इस दौरान आप केवल बेबस होते हैं।
और उसके बाद जब आप अपने प्यार से मिल नहीं पाते हैं तो यह दूरी आपको गम देती है। आपसे यह दूरी बर्दाश्त नहीं ‌‌‌हो पाती है। लेकिन आप कुछ नहीं
कर पाते हैं। बस बेकरार रहते हैं अपने प्यार के लिए।
‌‌‌प्यार
के अंदर चैन बहुत कम ही मिलता है। बस तड़प बेकरारी के अलावा प्यार मे कुछ नहीं है।
                                 कोई तो वफ़ा करे
                              
कोई तो जफ़ा करे
                                   किसको है पता
यहाँ
                                  कौन क्या ख़ता करे।।
कोई तो अपने प्यार के प्रति वफादार होता है . जबकि कोई अपने प्यार के प्रति वफादार नहीं होते और अपने साथी पर अत्याचार करते है इस तरह से उनको मानसिक और सारीरिक रूप से प्रताड़ित करते है  प्यार में किसी को पता नहीं चलता की कोन क्या गलती कर बैठता है

                                 ऐसा ना हो इश्क़ में
                                 कोई दिल को तोड़ दे
                                बीच रहा मे तेरा साथ छोड़ दे

‌‌‌कई बार इश्क के अंदर ऐसा भी हो जाता है कि हम उसमे डूब कर इतनी दूर चले जाते हैं। लेकिन बाद मे हमे पता चलता है कि हमारा साथी हमे देखा दे रहा है। वास्तव मे वह हमे बीच रस्ते पर छोड़ देता है। बहुत सी लड़कियों के साथ ऐसा होता है। इश्क मे वे ऐसी मोड पर पहुंच जाती हैं। जब उन का कोई नहीं होता है।